IPL मैचों में डॉट बॉल की जगह पेड़ का इमोजी

इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) 2023 का पहला क्वालीफायर गुजरात टाइटंस (GT) और चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) के बीच खेला गया, जिसमें इस ट्री इमोटिकॉन्स (Tree Emoticons) के माध्यम से एक नई पहल की शुरुआत हुई है. आईपीएल 2023 के प्लेऑफ के मुकाबलों में हर एक डॉट बॉल पर पेड़ का इमोजी दिख रहा है. पेड़ का ग्राफिक्स दिखने का अर्थ यह है कि बीसीसीआई हर एक डॉट बॉल के लिए 500 पेड़ लगाएगा. इसे बोर्ड की ओर से एक नई पहल के रूप में देखा जा रहा है. आईपीएल के बचे अन्य मैचों में भी इस पहल को जारी रखा जायेगा. चेन्नई में खेले गए पहले क्वॉलिफायर में गुजरात टाइटंस की ओर से 34 डॉट गेंदें फेकी गयी वहीं चार बार की आईपीएल चैंपियन सीएसके की ओर से 50 डॉट गेंदे फेकी गयी. दोनों टीमों का मिलाकर कुल 84 डॉट बॉल फेंकी गईं. इस तरह से बीसीसीआई द्वारा 42,000 पेड़ लगाए जाएंगे.

भारत में कब-कब करेंसी नोट वापस लिए गए

रिज़र्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने हाल ही में ऐलान किया कि ₹2,000 के करेंसी नोट चलन से वापस लिए जायेंगे. इससे पहले भी देश में ऐसे फैसले लिये जा चुके है. देश के केन्द्रीय बैंक द्वारा इससे पहले 5000 और 10 हजार रुपये के नोटों को भी जारी किया जा चुका है, हालांकि बाद उन्हें भी बंद कर दिया गया था. 

नोटबंदी का इतिहास:

भारत में इस तरह का फैसला पहली बार नहीं लिया गया है. इससे पहले भी देश में लोगों को बड़ी मूल्य के नोटों की जमाखोरी से रोकने के लिए इस तरह के फैसले लिए जा चुके है. चलिए जानें इसके बारें में-  

  • 1978 में की गयी थी पहली बार नोटबंदी: आजादी के बाद, 1978 में देश में काले धन पर लगाम लगाने के लिए तत्कालीन मोरारजी देसाई सरकार ने नोटबंदी का फैसला लिया था. मोरारजी देसाई सरकार ने बड़े नोटों को बंद कर दिया था. उस समय की जनता पार्टी की नेतृत्व वाली सरकार ने 1000 रुपये, 5000 रुपये और 10 हजार रुपये के करेंसी नोटों को बंद कर दिया था.   
  • आजादी से पहले की बात करें तो 1946 में कर चोरी व काले धन पर रोक लगाने के लिए ₹500 व उससे अधिक मूल्य के नोट को बंद कर दिया गया था. 
  • वर्ष 1954 में ₹1,000, ₹5,000 और ₹10,000 के नोट दोबारा से चलन में आ गए थे, जिन्हें बाद में 1978 में बंद कर दिया गया था. 
  • वर्ष 2014 में सरकार ने अहम फैसला लेते हुए 2005 से पहले की नोट को चलन से वापस लिया था. क्योकिं 2005 से पहले की नोटों में कम सुरक्षा विशेषता थी.  
  • वर्ष 2016 में मोदी सरकार ने नोटबंदी पर बड़ा फैसला लेते हुए ₹500 व ₹1,000 के करेंसी नोट को चलन से बाहर कर दिया था. जिसके बाद नवम्बर 2016 में 2000 के नोट को जारी किया गया था. सरकार ने यह फैसला काले धन और कर चोरी पर लगाम लगाने के लिए लिया था. 

पीएम मोदी को मिला फिजी का सर्वोच्च सम्मान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को फिजी के सर्वोच्च सम्मान से सम्मानित किया गया है. फिजी के प्रधानमंत्री सित्विनी राबुका (Sitiveni Rabuka) ने अपने देश के सर्वोच्च सम्मान ‘कंपैनियन ऑफ द ऑर्डर ऑफ फिजी’ से नवाज़ा है. इस सम्मान के बाद पीएम मोदी ने कहा कि “यह सिर्फ मेरा नहीं बल्कि 140 करोड़ भारतीयों का सम्मान है.”  पापुआ न्यू गिनी ने भी पीएम मोदी को अपने सर्वोच्च सम्मान से सम्मानित किया है.

पीएम मोदी को को मिले प्रमुख अवार्ड्स:

देशअवार्ड्स / सम्मान वर्ष
भूटान

ऑर्डर ऑफ ड्रक ग्यालपो (भूटान का सर्वोच्च नागरिक सम्मान)

2021
संयुक्त राज्य अमेरिका

लीजन ऑफ मेरिट  

2020
संयुक्त अरब अमीरातऑर्डर ऑफ जायद अवार्ड (संयुक्त अरब अमीरात का सर्वोच्च नागरिक सम्मान2019
बहरीनकिंग हमद ऑर्डर ऑफ रेनेसां (बहरीन ऑर्डर) (बहरीन का प्रथम श्रेणी का सर्वोच्च सम्मान2019
मालदीवमालदीव का सर्वोच्च सम्मान (निशान इज्जुद्दीन)2019
रूस

ऑर्डर ऑफ सेंट एंड्रयू अवार्ड (रूस का सर्वोच्च नागरिक सम्मान2019
फिलिस्तीनग्रैंड कॉलर ऑफ स्टेट ऑफ फिलिस्तीन अवार्ड (विदेशी गणमान्य व्यक्तियों को दिया जाने वाला फिलिस्तीन का सर्वोच्च सम्मान)2018
अफगानिस्तानस्टेट आर्डर ऑफ़ गाजी अमीर अमानुल्लाह खान (अफगानिस्तान का सर्वोच्च नागरिक सम्मान)  2016 

सऊदी अरबआर्डर ऑफ़ अब्दुलअज़ीज़ अल सऊद (सऊदी अरब का गैरमुस्लिम व्यक्तियों को दिया जाने वाला सर्वोच्च सम्मान2016 

विश्व तंबाकू निषेध दिवस

विश्व तंबाकू निषेध दिवस प्रतिवर्ष 31 मई को पूरी दुनिया में मनाया जाता है. इसका उद्देश्य तंबाकू सेवन के हानिकारक प्रभावों के प्रति लोगों में जागरूकता पैदा करना है. साथ ही तंबाकू कंपनियों की व्यावसायिक गतिविधियों से लोगों को अवगत कराना है.
इस दिवस को संयुक्त राष्ट्र संघ सहित दुनियाभर के अन्य संगठन तंबाकू उत्पादों और इसके सेवन को कम करने के उद्देश्य से कई तरह के कार्यक्रमों का आयोजन करते है. Month: Current Affairs – May, 2023. Category: India Nation & States Current Affairs • International / World Current Affairs …
विश्व तंबाकू निषेध दिवस थीम 2023:
हर साल 31 मई, WHO के लिए लोगों को धूम्रपान और तंबाकू का सेवन छोड़ने के लिए प्रोत्साहित करने का अवसर प्रदान करता है. इस वर्ष के विश्व तंबाकू निषेध दिवस की थीम है “हमें भोजन की आवश्यकता है, तंबाकू की नहीं” (We need food, not tobacco) है.

ISRO ने लांच किया नेविगेशन सैटेलाइट NVS-01

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) ने दूसरी पीढ़ी के नेविगेशन सैटेलाइट में से, पहले सैटेलाइट NVS-1 को सफलता पूर्वक लांच किया है. इसे इसरो के जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट लॉन्च व्हीकल (GSLV) रॉकेट द्वारा लॉन्च किया गया, इस नेविगेशन सैटेलाइट की लॉन्चिंग श्रीहरिकोटा से सुबह 10:42 बजे लॉन्च किया गया. इसकी मदद से देश की नेविगेशन ओर मॉनिटरिंग क्षमता को बढ़ाने में मदद मिलेगी. इंडियन रीजनल नेविगेशन सैटेलाइट सिस्टम (IRNSS) कांस्टेलेशन में सात सैटेलाइट्स में से प्रत्येक को ‘नाविक’ (NavIC) नाम दिया गया है.  NVS-1 सैटेलाइट को, इसरो के GSLV F12 राकेट की मदद से लांच किया गया. इंडियन रीजनल नेविगेशन सैटेलाइट सिस्टम (IRNSS) कांस्टेलेशन कुल सात सैटेलाइट का समूह है, जिसका भार लिफ्टऑफ के समय करीब 1,425 किलोग्राम होता है. NavIC से जुड़े सभी सैटेलाइट को पोलर सैटेलाइट लॉन्च वीइकल (PSLV) के माध्यम से स्पेस में भेजा गया है.  GSLV F12 राकेट इस सैटेलाइट को जियोसिंक्रोनस ट्रांसफर ऑर्बिट (GTO) में स्थापित किया, जहां से इसे ऑनबोर्ड मोटर्स को फायर करके आगे ले जाया गया. इसरो के चेयरमैन एस सोमनाथ, एसडीएससी के निदेशक राजाराजन और एलपीएससी के निदेशक वी नारायणन मिशन इस महत्वपूर्ण लॉन्चिंग के दौरान मौजूद थे.

सर्वाधिक मोबाइल डेटा स्पीड वाले टॉप 10 देश

इन्टरनेट स्पीडटेस्ट करने वाली टेक फर्म ऊकला (Ookla) ने हाल ही में ग्लोबल स्पीड टेस्ट रिपोर्ट जारी की है. इसके तहत ग्लोबल लेवल पर विभिन्न देशों की रैंकिंग जारी की गयी है. खाड़ी देश क़तर वैश्विक स्तर पर 189.98 MBPS की औसत डाउनलोड स्पीड के साथ पहले स्थान पर है. 

ग्लोबल मोबाइल डेटा स्पीड:

डाउनलोड स्पीडअपलोड स्पीडलेटेंसी
42.07 MBPS10.33 MBPS 28 MS

ग्लोबल फिक्स्ड ब्रॉडबैंड डेटा स्पीड:

डाउनलोड स्पीडअपलोड स्पीडलेटेंसी
80.12 MBPS35.13 MBPS 9 MS

इन्टरनेट स्पीड के मामले में भारत विश्व के कई देशों से काफी पीछे है. मोबाइल इन्टरनेट के मामले में भारत में नेट की स्पीड 36.35 एमबीपीएस की स्पीड है. ऊकला की मोबाइल स्पीड रैंकिंग में भारत 60वीं रैंक पर है. 

वहीं भारत में फिक्स्ड ब्रॉडबैंड डेटा स्पीड ग्लोबल लेवल पर बहुत अच्छी नहीं है. फिक्स्ड ब्रॉडबैंड डेटा स्पीड में भारत की रैंक 83वीं है. भारत में फिक्स्ड ब्रॉडबैंड की डेटा स्पीड 51.12 एमबीपीएस है.     

मोबाइल स्पीड के मामले में दुनिया के शीर्ष 10 देश:

रैंकदेशस्पीड (डाउनलोड)
1कतर 189.98 MBPS
2यूएई175.34 MBPS
3मकाउ (एसएआर)171.73 MBPS
4कुवैत139.03 MBPS
5नॉर्वे131.16 MBPS
6डेनमार्क118.83 MBPS
7बहरीन115.00 MBPS
8दक्षिण कोरिया110.59 MBPS
9चीन110.10 MBPS
10नीदरलैंड109.13 MBPS

फिक्स्ड ब्रॉडबैंड स्पीड रैंकिंग:

ऊकला द्वारा अप्रैल के लिए जारी की गई ग्लोबल स्पीड टेस्ट रिपोर्ट के मुताबिक, ग्लोबल लेवल पर 242.01 एमबीपीएस की औसत डाउनलोड स्पीड के साथ सिंगापुर पहले स्थान पर है. सिंगापुर के बाद चिली, यूएई, चीन का स्थान है.

फिक्स्ड ब्रॉडबैंड डेटा स्पीड के मामले में दुनिया के शीर्ष 10 देश:

रैंकदेशस्पीड (डाउनलोड)
1सिंगापुर242.01 MBPS
2चिली222.49 MBPS
3यूएई216.78 MBPS
4चीन215.80 MBPS
5हॉन्ग-कॉन्ग (एसएआर)205.19 MBPS
6थाईलैंड204.26 MBPS
7यूएसए202.40 MBPS
8डेनमार्क199.94 MBPS
9स्पेन175.96 MBPS
10रोमानिया174.26 MBPS

वॉट्सऐप ने लॉन्च किया ‘चैट्स लॉक’ फीचर

वॉट्सऐप ने हाल ही में यूजर्स के लिए एक नया फीचर लांच किया है. जिसकी मदद से अब वॉट्सऐप यूजर्स अपनी चैट को लॉक कर सकते है. इस नए फीचर के तहत यूज़र्स अपनी ‘सबसे इंटिमेट चैट्स’ लॉक कर सकते है. वॉट्सऐप की ओर से कहा गया कि हम इस नए फीचर को लेकर काफी उत्साहित है. अब वॉट्सऐप यूजर अपनी किसी चैट को और प्राइवेट बना सकते है. यदि यूज़र्स इस फीचर का अपनी किसी चैट पर अप्लाई करते है तो इसके बाद वह चैट, मुख्य चैट इनबॉक्स से हटकर एक नए फोल्डर में चली जाएगी. साथ ही इस फीचर को एक्टिवेट करने पर आपकी वह चैट आपकी रेगुलर चैट इनबॉक्स से हट जाएगी और नॉर्मल चैट बाक्स में दिखाई नहीं देगी. इस फीचर में जोड़े गए चैट यूजर से कोई मेसेज आने पर फोन पर कोई नोटिफिकेशन भी नहीं आयेगा. जिससे आप कह सकते है कि यह फीचर बहुत उपयोग में आने वाला है.

रविचंद्रन अश्विन आईपीएल 2023 में ‘डायमंड डक’ पर आउट हुए

राजस्थान रॉयल्स के बल्लेबाज रविचंद्रन अश्विन आईपीएल 2023 में खेले गए एक मैच में ‘डायमंड डक’ पर आउट हो गये. डायमंड डक शब्द का उपयोग किसी बल्लेबाज के आउट होने पर तब किया जाता है जब कोई बल्लेबाज बिना कोई गेंद खेले आउट हो जाता है. 

कितने प्रकार के होते है डक आउट:

1. डायमंड डकडायमंड डक किसी खिलाड़ी के लिए तब उपयोग किया जाता है जब वह बिना कोई गेंद खेले आउट हो जाता है. जैसा की पिछले मैच में रविचंद्रन अश्विन के साथ हुआ. 

डायमंड डक तब होता है जब एक बल्लेबाज रन आउट हो जाता है, टाइम आउट हो जाता है, या गेंद का सामना किए बिना मैदान में अवरोध उत्पन्न करता है. लीगल डिलीवरी का सामना किए बिना आउट होना डायमंड डक कहलाता है.

2. गोल्डन डकजब कोई खिलाड़ी अपनी पारी के दौरान पहली ही गेंद पर आउट हो जाता है तो उसे गोल्डन डक का नाम दिया जाता है. यह सबसे बदनाम और दुर्भाग्यपूर्ण आउट होता है.  

3. सिल्वर डक: सिल्वर डक खेल में कम लोकप्रिय शब्दों में से एक है. सिल्वर डक का उपयोग तब किया जाता है जब कोई बल्लेबाज दूसरी गेंद पर आउट हो जाता है.  

4. ब्रॉन्ज डकजब कोई खिलाड़ी अपने द्वारा खेली गयी तीसरी गेंद पर शून्य पर आउट हो जाता है तो उसे ब्रॉन्ज डक कहा जाता है. यह खिलाड़ियों के लिए और भी निराशाजनक और दुर्भाग्यपूर्ण होता है.  

5. रॉयल डकरॉयल डक क्रिकेट के इतिहास में सबसे बड़ी टेस्ट सीरीज एशेज से जुड़ा है. रॉयल डक का लेबल उस खिलाड़ी के लिए उपयोग किया जाता है जब कोई खिलाड़ी टेस्ट श्रृंखला में पहली ही गेंद पर आउट हो जाता है.   

6. लाफिंग डकजब कोई खिलाड़ी बिना कोई रन बनायें बनायें आउट हो जाता है और उसके आउट होते ही पारी भी समाप्त हो जाती है. इस प्रकार के अनोखे डक को लाफिंग डक के नाम से जाना जाता है.  

7. किंग पेअरवैसे इस प्रकार का डक आउट टेस्ट क्रिकेट में होता है. जब कोई खिलाड़ी एक ही मैच की दोनों पारियों में गोल्डन डक पर आउट हो जाता है तो उसे किंग पेअर नाम दिया जाता है. यह भी एक प्रकार का दुर्भाग्यपूर्ण डक आउट होता है. 

8. बैटिंग हैट्रिक: बैटिंग हैट्रिक डक का उपयोग भी टेस्ट क्रिकेट में किया जाता है. जब कोई बल्लेबाज किसी भी लगातार टेस्ट पारी में तीन गेंदों में तीन बार आउट होता है तो इस प्रकर के आउट को बैटिंग हैट्रिक का नाम दिया जाता है.   

9. पेअर डक (A Pair): इस प्रकार का डक आउट टेस्ट क्रिकेट में ही देखा जाता है जब कोई बल्लेबाज एक ही मैच की दोनों पारियों में किसी भी प्रकार के डक से आउट होता है तो इस प्रकार के डक को  ‘ए पेयर’ का नाम दिया जाता है.   

एक सीज़न में सर्वाधिक बार डक पर आउट होने वाले खिलाड़ी:   

राजस्थान रॉयल्स के जॉस बटलर एक आईपीएल सीज़न में सर्वाधिक बार डक पर आउट होने के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली है. इस सीजन बटलर 4 बार डक पर आउट हो चुके है. आईपीएल इतिहास में सर्वाधिक बार डक पर आउट होने का रिकॉर्ड निकोलस पूरन (2021), मिथुन मन्हास (2011) और हर्शल गिब्स (2009), ऑइन मॉर्गन (2021), शिखर धवन (2020), मनीष पांडेय (2012) के नाम दर्ज है जो एक सीज़न में 4-4 बार डक पर आउट हुए हो चुके है.

यशस्वी जायसवाल ने जड़ा IPL इतिहास का सबसे तेज़ अर्धशतक

राजस्थान रॉयल्स (RR) टीम के सलामी बल्लेबाज और भारतीय टीम के भविष्य यशस्वी जायसवाल ने आईपीएल इतिहास का सबसे तेज़ अर्धशतक जड़कर एक कीर्तिमान स्थापित कर दिया है. 21 वर्षीय जायसवाल ने कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) के खिलाफ खेले गए एक मैच के दौरान महज 13 गेंदों में ही अपना अर्द्धशतक पूरा कर IPL में सबसे तेज अर्द्धशतक का रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया. आईपीएल में सबसे तेज अर्धशतक के मामले में यशस्वी ने केएल राहुल के रिकॉर्ड को तोड़ दिया, राहुल ने 14 गेंदों में फ़िफ़्टी मारी थी. इससे पहले यह रिकॉर्ड संयुक्त रूप से के.एल. राहुल और पैट कमिंस के नाम दर्ज था. 

आईपीएल इतिहास का सबसे तेज अर्धशतक:

आईपीएल में सबसे तेज शतक की बात करें तो अब एक नंबर की पोजीशन पर यशस्वी जायसवाल आ गए है. उनके बाद के.एल. राहुल और पैट कमिंस, और यूसुफ पठान का नंबर आता है.

रैंक खिलाड़ीकुल रनगेंदबनाम
1यशस्वी जायसवाल (RR)98*13KKR
2केएल राहुल (PBKS)5114DC
3पैट कमिंस (KKR)5614MI
4यूसुफ पठान (KKR)7215SRH
5सुनील नरेन (KKR)5415RCB
6निकोलस पूरन (LSG)6215RCB
7सुरेश रैना (CSK)8716PBKS
8ईशान किशन (MI)5121SRH
9क्रिस गेल (RCB)17517PWI
10हार्दिक पांड्या (MI)9117KKR

पाकिस्तान में अब तक किन-किन पूर्व प्रधानमंत्रियों को किया गिरफ्तार

भारत के पड़ोसी देश पाकिस्तान में इस समय राजनीतिक हलचल काफी तेज चल रही है. पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान को हाल ही में गिरफ्तार किया गया है, जिसके बाद से पड़ोसी देश में राजनीतिक अस्थिरता देखने को मिल रही है. पीटीआई प्रमुख इमरान को अल-कादिर ट्रस्ट से जुड़े एक मामले में गिरफ्तार किया गया है. उन पर वित्तीय अनियमितताओं का आरोप है जिसका नैशनल अकाउंटेबिलिटी ब्यूरो जांच कर रही है. इमरान पर आरोप है कि ₹15 करोड़ की कीमत वाली जमीन अल-कादिर ट्रस्ट को दी गयी थी जिसके मालिक इमरान और उनकी पत्नी है. यह जमीन एक रियल एस्टेट कंपनी द्वारा दी गयी थी.

इन पूर्व प्रधानमंत्रियों की हुई है गिरफ्तारी:

1.नवाज़ शरीफपाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ पाकिस्तान के सबसे लंबे समय तक प्रधानमंत्री रहे है. शरीफ को 2007 में हाउस अरेस्ट में रखा गया था. उन्हें वर्ष 2017 में सुप्रीम कोर्ट द्वारा पीएम पद से हटा दिया गया था. बाद में उन्हें सात साल की जेल की सजा सुनाई गई थी.     

2.बेनज़ीर भुट्टोबेनजीर भुट्टो पाकिस्तान की पहली महिला प्रधानमंत्री थी और वह लगातार दो बार शीर्ष पद पर बनी रही थी. वह, पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के संस्थापक जुल्फिकार अली भुट्टो की बेटी थी. सरकार विरोधी भाषण के आरोपों के कारण 1986 में उन्हें गिरफ्तार किया गया था. वर्ष 2007 में उनकी हत्या कर दी गयी थी.   

3.हुसैन शहीद सुहरावर्दी: हुसैन शहीद सुहरावर्दी पाकिस्तान के पांचवें प्रधानमंत्री थे. वह 1956 से 1957 तक प्रधानमंत्री के पद पर थे. बाद में उन्होंने पद से इस्तीफा दे दिया था और देश में मार्शल लॉ लागू कर उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था. 

4.जुल्फिकार अली भुट्टो: पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के संस्थापक जुल्फिकार अली भुट्टो पाकिस्तान के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री रह चुके थे. जुल्फिकार अली को वर्ष 1977 में सैन्य नेता जनरल मुहम्मद जिया-उल-हक के नेतृत्व में एक सैन्य तख्तापलट में गिरफ्तार किया गया था. 5.शाहिद खाकान अब्बासी: शाहिद खाकान पाकिस्तान के 15वें प्रधानमंत्री थे. अब्बासी को एलएनजी आयात अनुबंध देने से जुड़े भ्रष्टाचार के एक मामले में 2019 में गिरफ्तार किया गया था.

दिल्ली मेट्रो ने शुरू किया QR कोड वाले पेपर टिकट

दिल्ली मेट्रो ने हाल ही में क्यूआर कोड आधारित पेपर टिकट की शुरुआत की है. जिसकी मदद से दिल्ली मेट्रो से सफ़र करने वाले यात्रियों को आसानी होगी. इस सुविधा का लाभ यात्री अपने फोन की मदद से उठा सकते है. इसके लिए यात्रियों को केवल मेट्रो स्टेशन पर लगे QR कोड को स्कैन करना होगा और ट्रेवल चार्ज को पे करना होगा, जिसके बाद आपको पेपर टोकन मिल जायेगा इस पेपर टोकन की मदद से यात्री आसानी से अपने गंतब्य तक पहुँच सकते है. यह QR कोड आधारित पेपर टोकन 60 मिनट के लिए वैलिड रहेगा. इस QR कोड आधारित पेपर टिकट की मदद से यात्री अपने गंतव्य स्टेशन से पहले किसी भी इंटरमीडिएट स्टेशन पर नहीं उतर सकेंगे. इंटरमीडिएट स्टेशन पर यह पेपर टोकन काम नहीं करेगा और AFC गेट भी नहीं खुलेंगे. डीएमआरसी की ओर से कहा गया है कि इस सुविधा का फायदा मेट्रो यूजर्स को होगा. अब यात्रियों के पास टोकन का एक अच्छा विकल्प मिल गया है. इस प्रकार की टिकटिंग व्यवस्था से यात्रियों के पास अधिक विकल्प मौजूद हो गए है. जिससे यात्रियों के समय की बचत होगी 

केंद्रीय विद्युत और नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री ने यूरोपियन ग्रीन डील

केंद्रीय विद्युत और नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री ने यूरोपियन ग्रीन डील, यूरोपीय संघ के कार्यकारी उपाध्यक्ष  के साथ बैठक की। यह बैठक यूरोपीय संघ और भारत के बीच स्वच्छ ऊर्जा और जलवायु भागीदारी के लिये सहयोग पर चर्चा करने के लिये आयोजित की गई थी।

यूरोपियन ग्रीन डील:

यूरोपियन ग्रीन डील यूरोपीय संघ को एक आधुनिक, संसाधन-कुशल और प्रतिस्पर्द्धी अर्थव्यवस्था में रूपांतरित करने का प्रयास करती है, इसके साथ यह सुनिश्चित करती है:  वर्ष 2050 तक ग्रीनहाउस गैसों का कोई शुद्ध उत्सर्जन न करना।  संसाधनों के उपयोग से अलग आर्थिक विकास। कोई व्यक्ति और कोई स्थान पीछे नहीं छूटे। अगली पीढ़ी के EU रिकवरी प्लान से 1.8 ट्रिलियन यूरो निवेश का एक तिहाई और EU का सात साल का बजट यूरोपीय ग्रीन डील को फंडिंग प्रदान करेगा।

यूरोपीय संघ-भारत स्वच्छ ऊर्जा और जलवायु साझेदारी पर वर्ष 2016 में यूरोपीय संघ-भारत शिखर सम्मेलन में सहमति व्यक्त की गई थी। यह यूरोपीय संघ की साझेदारी द्वारा वित्तपोषित है और भारत में यूरोपीय संघ के प्रतिनिधिमंडल द्वारा प्रबंधित किया जाता है। प्राइसवाटरहाउसकूपर्स प्राइवेट लिमिटेड (PwC India) इस परियोजना के लिये NIRAS A/S, EUROCHAMBRES और ऊर्जा, पर्यावरण तथा जल परिषद (CEEW) के साथ मिलकर कार्यान्वयन भागीदार है।

भारत के केंद्रीय शिक्षा मंत्री सिंगापुर की तीन दिवसीय यात्रा शुरू की

भारत के केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने हाल ही में मौजूदा संबंधों को मज़बूत करने और शिक्षा एवं कौशल विकास में द्विपक्षीय जुड़ाव को व्यापक बनाने के अवसरों की तलाश के उद्देश्य से सिंगापुर की तीन दिवसीय यात्रा शुरू की।

भारत और सिंगापुर के बीच घनिष्ठ संबंधों का इतिहास है जो एक सहस्राब्दी के मज़बूत वाणिज्यिक, सांस्कृतिक और दोनों देशों के लोगों के बीच संबंधों में निहित है। आधुनिक संबंधों का श्रेय सर स्टैमफोर्ड रैफल्स को दिया जाता है, जिन्होंने वर्ष 1819 में मलक्का जलडमरूमध्य के मार्ग पर सिंगापुर में एक व्यापारिक केंद्र की स्थापना की, जो बाद में एक क्राउन कॉलोनी बन गई और वर्ष 1867 तक कोलकाता से शासित हुआ। स्वतंत्रता के बाद भारत, वर्ष 1965 में सिंगापुर को मान्यता देने वाले पहले देशों में से एक था।

आर्थिक सहयोग:

 सिंगापुर, आसियान में भारत के सबसे बड़े व्यापार और निवेश भागीदारों में से एक है तथा वर्ष 2021-22 में यह आसियान के साथ भारत के कुल व्यापार का 27.3% था। सिंगापुर, भारत में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश का भी प्रमुख स्रोत है। पिछले 20 वर्षों में सिंगापुर से भारत में किया गया कुल निवेश लगभग 136.653 बिलियन डॉलर है और यह कुल FDI प्रवाह का लगभग 23% है। भारत और सिंगापुर के मध्य वर्ष 2005 में व्यापक आर्थिक सहयोग समझौते (CECA) पर हस्ताक्षर किये गए थे। भारत और सिंगापुर ने व्यापार एवं निवेश को बढ़ावा देने के लिये भारत-सिंगापुर बिज़नेस फोरम तथा भारत-सिंगापुर सीईओ फोरम जैसी कई पहलों पर भी सहयोग किया है। हाल ही में भारत के यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (UPI) और सिंगापुर के PayNow को फरवरी 2023 में दोनों देशों के बीच तेज़ी से प्रेषण को सक्षम करने के लिये एकीकृत किया गया है।

रक्षा एवं सुरक्षा सहयोग:

दोनों देश हिंद-प्रशांत क्षेत्र में क्षेत्रीय स्थिरता और समुद्री सुरक्षा को लेकर चिंताएँ साझा करते हैं। वर्ष 2015 में राजनयिक संबंधों की स्थापना की 50वीं वर्षगाँठ के अवसर पर उन्होंने अपने संबंधों को एक रणनीतिक साझेदारी के रूप में उन्नत किया। उन्होंने रक्षा सहयोग समझौता- 2003 और नौसेना सहयोग समझौता- 2017, जैसे अपने रक्षा संबंधों को मज़बूत करने के लिये कई समझौतों पर हस्ताक्षर किये हैं।

पीएम मोदी ने किया नए संसद भवन का उद्घाटन

भारत के नए संसद भवन का उद्घाटन 28 मई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा कर दिया गया है. जिसको लेकर दोनों सदनों के सांसदों लोकसभा के सभी पूर्व स्पीकरों और राज्यसभा के सभी पूर्व सभापतियों को निमंत्रण भेजा गया था भारतीय लोकतंत्र की शक्ति हमारी देश की संसद में प्रकट होती है, जिसने औपनिवेशिक शासन सहित कई ऐतिहासिक पड़ाव देखे हैं. नया संसद भवन संविधान की मूल भावना को आगे लेकर जायेगा. यह भवन 65,000 वर्गमीटर क्षेत्र में बनाया गया है.