डेटा स्ट्रक्चर में sorting वह प्रक्रिया है जिसके द्वारा हम डेटा को एक logical order में arrange (क्रमबद्ध) करते है. यह लॉजिकल ऑर्डर ascending ऑर्डर भी हो सकता है या descending ऑर्डर भी हो सकता है। ascending का अर्थ होता है कि बढ़ते क्रम में और descending का अर्थ होता है घटते क्रम में।

Sorting का संबंध ढूंढने (searching) से है, हमारी अपनी जिंदगी में बहुत सी चीजें होती है जिन्हें हम ढूंढते है जैसे:- google में कोई टॉपिक, किताब में कोई पेज, डिक्शनरी में कोई शब्द, किसी परीक्षा में रोल नंबर तथा हमारे मोबाइल के contacts no. आदि। तो ये सभी चीजें जो होती है वह sorted (arrange) होती है जिससे हम आसानी से उन्हें ढूंढ लेते है।

Types of sorting (सॉर्टिंग के प्रकार):-

यह दो प्रकार की होती है:-
1. Internal सॉर्टिंग
2. External सॉर्टिंग

  1. Internal sorting:- इस सॉर्टिंग में sort किये जाने वाला सभी डेटा main memory में ही रहता है. internal sorting के प्रकार निम्नलिखित है:-
    1. bubble sort
    2.  insertion sort
    3.  quick sort
    4.  heap sort
    5.  selection sort

2. External sorting:- इस सॉर्टिंग में sort किये जाने वाला डेटा secondary memory में रहता है। क्यूंकि डेटा इतना ज्यादा होता है कि वह main memory में नहीं आ पाता. external सॉर्टिंग का एक ही प्रकार होता है वह है  merge sort

Bubble sort:-

bubble sort एक बहुत ही आसान sorting तकनीक है. इसमें शुरुवात की दो elements को compare किया जाता है. यदि left वाला एलिमेंट right वाले एलिमेंट से बड़ा है तो वे अपने स्थान को एक दूसरे से बदल लेंगे। और comparison अंत तक चलता रहेगा ।

Bubble Sort Algorithm

bubble sort को implement करने के लिए निम्नलिखित algorithm का प्रयोग किया जाता है।

(bubble sort) BUBBLE (a,n) यहाँ a एक array है जिसमें n elements है।

step 1. repeat step 2 & 3 for k = 1 to n-1 (no. of passes)

step 2. repeat step 3 for p = 1 to n-k (no. of comparisions)

step 3. check if (a[p] a>[a+1]) then
interchange a[p] to a[p-1]
end of if structure
end of step 2 loop
end of step 3 loop


Leave a Reply